Skip to content

सावित्रीबाई फुले कौन थी | savitribai fhule full biography 

सावित्रीबाई फुले कौन थी | savitribai fhule full biography  :->सावित्रीबाई फुले देश की पहली शिक्षिका 1 महिला सशक्तिकरण की मिसाल कायम करने वाली savitribai fhule जी का जन्म 3 जनवरी 1835 को महाराष्ट्र स्थित सतारा के 9 गांव में हुआ था|

सावित्रीबाई फुले कौन थी | savitribai fhule full biography 

Who was savitribai phule (savitribai fhule full biography ) :->सावित्रीबाई फुले को देश के पहले बालिका विद्यालय की पहली प्रधानाचार्य बनने और पहले किसान स्कूल की स्थापना करने का श्रेय दिया जाता है| सबित्री राय फुले ने महिलाओं की शिक्षा और उनके अधिकारों की लड़ाई महत्वपूर्ण योगदान दिया था|

सावित्रीबाई फुले के माता-पिता का क्या नाम था( Name of savitri bai fhule):->

इनके पिता का नाम खंडो जी ने उसे और माता का नाम लक्ष्मी बाई था|

किन से हुई थी सावित्रीबाई फुले जी की शादी :->

सावित्रीबाई फुले की शादी में 9 साल की उम्र में ही ज्योतिबा फूले से हो गई थी |उनके पति ज्योतिबा फूले एक समाजसेवी और लेखक थे ज्योतिबा फुले ने स्त्रियों की दशा सुधारने और समाज में उन्हें पहचान बनाने में के लिए इन्होंने 1848 में एक स्कूल खोला|

सावित्रीबाई फुले और उनके पति ज्योतिबा फुले द्वारा खोला गया पहला स्कूल:-

यह देश का पहला ऐसा स्कूल था जिसे लड़कियों के लिए खोला गया था लड़कियों को पढ़ाने के लिए अधिक अध्यापिका नहीं मिली तो उन्होंने कुछ दिन स्वयं यह काम करके अपनी पत्नी सावित्री को इस योग्य बना दिया सावित्रीबाई फुले भारत के पहले बालिका विद्यालय की पहली प्रिंसिपल बनी|

कुछ लोग आराम से ही उनके काम में बाधा बन गए महेश तारा साल की उम्र में सावित्री अपने घर से लड़कियों को पढ़ाने के लिए स्कूल जाती थी| तब विरोधी रास्ते में उन्हें परेशान करने की कोशिश करते थे|

वह उन्हें गंदी गालियां देकर का प्रमाणित करते थे कोई अपने घर से पत्थर फेक कर मारता था तो वहीं वह बर्फी करवाता था लेकिन फिर भी सभी 3:00 इन सब का डटकर मुकाबला करते हुए रोज लड़कियों को पढ़ाने के लिए स्कूल जाती थी|

लेकिन ज्योतिबा फुले और सावित्रीबाई फुले का हौसला डगमगा या नहीं और उन्होंने लड़कियों के 3 दिन स्कूल खोल दिए|

कब हुआ था  सावित्रीबाई फुले का निधन:-

सावित्री बाई फुले ने लोगों की सेवा करते हुए दुनिया को कहा था अलविदा| फूल दंपति ने जिस यशवंतराव को गोद लिया था वह एक ब्राह्मण विधवा के बेटे थे|

उन्होंने अपने बेटे के साथ मिलकर अस्पताल भी खोला था इसी अस्पताल में प्लेग महामारी के दौरान सभी त्रिपाई प्ले के मरीजों की सेवा करती थी एक प्लेन से प्रभावित बच्चे की सेवा करने के कारण उनकी भी यह बीमारी हो गई|

जिसके कारण उनकी 10 मार्च 18 स्थान में को मौत हो गई थी|savitribai fhule full biography 

निष्कर्ष :-

दोस्तों सबित्री बाई फुले एक ऐसी क्रांतिकारी महिला थी जिन्होंने शिक्षा पद्धति को नया आयाम दिया| उन्होंने औरतों को उनके हकों के साथ अवगत कराया उनको शिक्षा प्रदान करके अपने पैरों पर खड़ा करा| सुमित री बाई फूले एक ऐसी समाजसेवी थी जिन्होंने शिक्षा के साथ और अन्य क्षेत्रों में भी लोक कल्याण के लिए बहुत कार्य करें |

हम अपनी ओर से ऐसी महान आत्मा को प्रणाम करते हैं |दोस्तों अगर आप भी इस लेख को देखकर प्रभावी हुए तो कृपया इसे अन्य लोगों के साथ भी शेयर करें धन्यवाद|savitribai fhule full biography 

Recent Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *